7 भारतीय मूल के व्यापारियों ने अमेरिका में कर चोरी का आरोप लगाया

Rate this post


द्वारा: PTI | शिकागो |

प्रकाशित: 19 सितंबर, 2015 4:34:31 बजे


अमेरिका में सात भारतीय मूल के व्यवसायियों पर 3.5 मिलियन अमरीकी डालर से अधिक की बिक्री कर चोरी और 15 साल तक की कैद का सामना करने का आरोप लगाया गया है। अटॉर्नी जनरल के कार्यालय के एक बयान के अनुसार, कानून प्रवर्तन अधिकारियों ने दो साल की आपराधिक कर जांच के बाद चेरग पटेल, दीपकुमार पटेल, जिग्गकुमार पटेल, मुकेश पटेल, निशांत पटेल, रजनीकांत पटेल और विशाल पटेल के खिलाफ आरोप दायर किए।

एनबीसी शिकागो ने कल बताया कि जुलाई 2010 से दिसंबर 2013 तक, सात भारतीयों सहित नौ प्रतिवादियों ने सामूहिक रूप से राज्य को 3.5 मिलियन अमरीकी डालर से अधिक की बिक्री करों से बाहर कर दिया। सात ऑपरेटरों को USD 100,000 से अधिक की बिक्री कर चोरी का आरोप लगाया गया था, 1 कक्षा की जेल में चार से 15 साल तक की सजा।

बयान के मुताबिक, यासिर कानन और दीपकुमार पर 10 हजार अमेरिकी डॉलर से अधिक की बिक्री कर चोरी का आरोप लगाया गया था। रिपोर्ट में कहा गया है कि आरोप लगाने वालों में से पांच को इलिनोइस डिपार्टमेंट ऑफ रेवेन्यू के विशेष एजेंटों ने कल गिरफ्तार किया था।

बयान के अनुसार, सभी नौ प्रतिवादियों को कल बॉन्ड कोर्ट में पेश किया जाना था, लेकिन उसी पर जानकारी तुरंत उपलब्ध नहीं थी। आरोप इलिनोइस डिपार्टमेंट ऑफ रेवेन्यू के आपराधिक जांच प्रभाग द्वारा राज्य के बाहर से लाई गई बिना लाइसेंस की शराब की आपराधिक जांच के परिणाम हैं।

सभी नवीनतम के लिए विश्व समाचार, डाउनलोड इंडियन एक्सप्रेस ऐप

। [TagsToTranslate] कर चोरी इंडियंस [टी] हमें कर चोरी [टी] हमें कर चोरी भारतीयों



Source link

Updated: 19/09/2015 — 16:34
Rojgar Samachar © 2021

 सरकारी रिजल्ट

Frontier Theme